Gram Pradhan Salary: Uttar Pradesh में ग्राम प्रधान की सैलरी कितनी होती है?

Gram Pradhan Salary, ग्राम प्रधान कि सैलरी कितनी होती है, ग्राम प्रधान का वेतन, Gram pradhan salary monthly, ग्राम प्रधान कोन होता है, gram pradhan salary in hindi, ग्राम प्रधान का सैलरी कितना है, ग्राम प्रधान कैसे बने, Gram Pradhan Ki Salary Kitni Hoti Hai.

इस आर्टिकल में हम बात करने जा रहे है ग्राम प्रधान कि सैलरी के बारे में क्योंकि बहुत से लोगों के मन में ये सवाल रहता है कि आखिर ग्राम प्रधान कि सैलरी कितनी होती है उसके कार्य क्या क्या होते है तथा ग्राम प्रधान का कार्यकाल कितना होता है उसके लिए योग्यता कितनी होनी चाहिए जैसा कि आपकी जानकारी के लिए बता दे कि ग्राम प्रधान को हि सरपंच कहा जाता है अलग अलग राज्यों में प्रधान यानी सरपंच को अलग अलग नामों से पुकारा जाता है|

आज हम बात करने जा रहे है उत्तरप्रदेश के ग्राम प्रधान कि सैलरी के बारे में देश के सभी राज्यों में ग्राम प्रधानों को अलग अलग सैलरी दी जाती है तो आइये आप भी जाने उत्तरप्रदेश ग्राम प्रधान कि सैलरी के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी |

ग्राम प्रधान क्या होता है?

भारत के किसी राज्य में ग्राम प्रधान को सरपंच कहा जाता है तो किसी राज्य का गाँव का मुखिया कहा जाता है ये नेताओं कि तरह जनता कि और से चुना जाता है ग्राम प्रधान कि सैलरी भी देश के सभी राज्यों में समान रूप से नही दी जाती है बल्कि अलग अलग राज्यों में अलग अलग वेतन दिया जाता है ते वेतन उनको मानदेय के हिसाब से दिया जाता है |

जनता कि आवाज को शहर तक पहुचाने उनकी मांग को नेताओं और अधिकारियों के सामने रखने के लिए प्रधान का चयन किया जाता है प्रधान के चयन के लिए चुनाव आयोग कि और से हर 5 वर्षों में चुनाव किये जाते है प्रधान के निचे एक गाँव या फिर कई गाँव भी आ सकते है |

ग्रामीण क्षेत्र और शहरी क्षेत्र कि योजना:

हम आपको उत्तरप्रदेश के प्रधान के बारे में बता रहे है यहा प्रधान को सरपंच नही कहा जाता है और न हि मुखिया कहा जाता है यहाँ उसे प्रधान के रूप में जाना जाता है ग्रामीण क्षेत्रों में विकास के कार्य करवाना प्रधान कि मुख्य भूमिका रहती है तथा ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को मकान,सौचालय तथा अन्य प्रकार कि सरकारी सेवाओं का लाभ करवाने कि जिमेदारी प्रधान कि होती है |

प्रधान के लिए सरकार कि और से एक ग्राम पंचायत कार्यालय बनवाया जाता है जिसमे उसे रोजाना नियमानुसार उपस्थित होना पड़ता है प्रधान को अपने गाँव के वार्ड पंचों कि हर महीने में 2 बार मीटिंग लेनी होती है जिसमे गाँव के विकास के मुद्दे पर चर्चा कि जाती है यदि आप प्रधान कि सैलरी के बारे में जानना चाहते है तो इस पोस्ट को पूरा पढ़े |

Gram Pradhan Salary | ग्राम प्रधान कि सैलरी कितनी होती है ?

बात करे यदि ग्राम प्रधान कि सैलरी के बारे में तो उसे हर महीने 3500 रूपये का वेतन मानदेय के रूप में ग्राम पंचायत कि ओर से दिया जाता है इसके आलवा उसे यात्रा के लिए 15 हजार रूपये अलग से दिया जाता है ये 15 हजार रूपये प्र्धानको इसलिए दिया जाता है ताकि प्रधान गाँव के विकास के मुद्दे को लेकर शहर के विधायक और अन्य नेताओं के पास जा सके इसके लिए उसे बार बार नेताओं से और बड़े बड़े अधिकारियों से मिलना होता है

बार बार शहरी क्षेत्र में जाने पर प्रधान को अपने घर से किराया देने कि जरूरत नही है इसलिए सरकार कि और से प्रधान को यात्रा के लिए 15 हजार रूपये प्रति माह देने कि अलग से योजना बनाई गई है

कुल मिलाकर बात करे तो उत्तरप्रदेश राज्य के प्रधान को 18500 रूपये का वेतन प्रति माह दिया जाता है अन्य राज्यों में इसके समान नही दिया जाता है हर राज्य कि सरकार का अपना अपना एक नियम होता है जिसके हिसाब से प्रधान को वेतन दिया जाता है ग्रामीण क्षेत्र के लोग अपनी मांगों को लेकर शहरी क्षेत्र में बार बार नही जा पाते है न हि वो लोग मंत्रियों और बड़े बड़े अधिकारियों के पास जा पाते है

और उनकी समस्या का समाधान नही हो पाता है ऐसे में प्रधान हि उनकी मांगों को लेकर शहरी क्षेत्र में पंचायत समिति में जाना होता है उसे महीने में कई बार पंचायत समिति में मीटिंग में भी भाग लेना होता है इस 18500 रूपये के वेतन में कुछ भत्ते भी शामिल है जो ग्राम प्रधान को हर महीने दिए जाते है

ग्राम प्रधान का कार्यकाल:

उत्तरप्रदेश राज्य के ग्राम प्रधान के अलावा अन्य राज्यों के ग्राम प्रधान का कार्यकाल भी 5 वर्षों का होता है इसके बाद ग्राम प्रधान के फिर से चयन के लिए चुनाव आयोग कि तरफ से चुनाव करवाए जाते है जिसमे नये प्रधान का चयन किया जाता है अगर जनता कि और से फिर से उसी ग्राम प्रधान का चयन कर लिया जाता है तो उसे जनता कि सेवा करने का फिर से 5 वर्ष के लिए और मिका मिल जाता है

ग्राम पंचायत सदस्य को कितने पैसे मिलते है?

ग्राम सभा के मतदाता ग्राम पंचायत सदस्यों का चुनाव करते हैं। उनकी संख्या आबादी के हिसाब से तय होती है। उन्हें सरकार की ओर से कोई मानदेय नहीं मिलता है। उनके पास जबरदस्त शक्ति है। ग्राम पंचायत सदस्य मिलकर किसी भी प्रमुख को उसके पद से हटा सकते हैं।

क्या क्षेत्र पंचायत सदस्य (BDC) को मानदेय मिलता है?

ग्राम पंचायत के लोग अपने मताधिकार का प्रयोग करते हुए बीडीसी यानी क्षत्र पंचायत सदस्य का चयन करते हैं। बीडीसी सदस्य ब्लॉक प्रमुख चुनने वाले होते हैं। राज्य पंचायत सदस्यों को राज्य सरकार की ओर से कोई मानदेय नहीं मिलता है, लेकिन सरकार उन्हें भत्ता देती है। इसमें यात्रा भत्ता भी शामिल है। इसके अलावा पंचायत की बैठक में शामिल होने के लिए हर बार 500 रुपये दिए जाते हैं।

Gram Pradhan के लिए योग्यता:

  • वह अपने राज्य का स्थाई निवाशी होना आवश्यक है
  • कम से कम 10 वीं कक्षा पास होना जरूरी है
  • उसकी आयु 20 वर्ष से लेकर 60 वर्ष के बीच कि होनी चाहिए
  • उस पर किसी कोर्ट से कोई मुकदमा नही चल रहा हो
  • अगर व्यक्ति शादीशुदा है तो उसके 2 बच्चों से ज्यादा बच्चे नही होने चाहिए

FAQs: 

Q: ग्राम प्रधान हेल्पलाइन नंबर क्या है?

A: ग्राम प्रधान हेल्पलाइन नंबर आप अपनी ग्राम पंचायत से प्राप्त कर सकते है आपके ग्राम प्रधान के मोबाइल नंबर नंबर आपको ग्राम पंचायत में मिलते है जहा ग्राम पंचायत के कार्यालय भी कहते है वह से आप हेल्पलाइन नंबर प्राप्त कर सकते है |

Q: ग्राम प्रधान का कार्यकाल कितना होता है?

A: ग्राम प्रधान का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है इसके बाद फिर से चुनाव होते है और ज्यादा वोट प्राप्त करने वाला 5 साल के लिए ग्राम प्रधान बन जाता है |

Q: ग्राम प्रधान बनने के लिए कितने पैसे लगते है?

A: ग्राम प्रधान बनने के लिए वैसे तो कोई पैसा नहीं लगता है लेकिन आम तोर पर कम इ कम 50 हजार रु खर्च हो जाते है व ज्यादा से ज्यादा सर्कार के नियम अनुसार 4-5 लाख या इससे अधि खर्च नहीं कर सकते है |

Q: ग्राम प्रधान का एक महीने का वेतन कितना होता है?

A: ग्राम प्रधान हर महीने (प्रतिमाह) 3500रु का वतन दिया जाता है इसके अलावा भी इसके आलवा उसे यात्रा के लिए 15 हजार रूपये अलग से दिया जाता है ये 15 हजार रूपये प्र्धानको इसलिए दिया जाता है ताकि प्रधान गाँव के विकास के मुद्दे को लेकर शहर के विधायक और अन्य नेताओं के पास जा सके इसके लिए उसे बार बार नेताओं से और बड़े बड़े अधिकारियों से मिलना होता है |

Q: ग्राम प्रधान बनने के लिए कितनी पढाई करनी होती है?

A: ग्राम प्रधान बनाने के लिए 10वी तक पढाई करनी होती है जिसके बाद अगर शादी सुदा है तो2 बचो से अधिक बच्चे ना हो ग्राम प्रधान कि आयु 20 से 60 वर्ष होनी चाहिय |

Q: ग्राम प्रधान के कार्य लिस्ट?

A: ग्राम प्रधान के कार्य कि लिस्ट पंचायत समिति या ऑनलाइन देख सकते है जिसमे आपको अपने ग्राम पंचायत कि सूचि ऑनलाइन देखनी होती है जिसमे आपकी ग्राम पंचायत को कितना पैसा मिला और किस कार्य के लिए कितना पैसा खर्च हुआ आदि जानकारी अपनी ग्राम पंचायत वेबसाइट के माध्यम से देखे |

Leave a Comment